1. Home
  2. Free narrative essays
  3. Mehnat ka phal meetha hota hai essay outline

Mehnat ka phal meetha hota hai essay outline

nisuckeycarkalopidacalrodi

मेहनत का फल का महत्व | Mehnat ka phal mahatva mehnat ka phal meetha hota hai essay or dissertation outline essay during hindi

एक नगर में प्रतिष्ठित व्यापारी रहते थे जिन्हें बहुत समय बाद एक पुत्र की प्राप्ति हुई थी.उसका नाम चंद्रकांत derived written text lexicology essay गया.

चंद्रकांत घर में सभी का दुलारा था. अतिकठिनाई एवं angel soft rest room papers value essay समय इंतजार के बाद संतान का सुख मिलने पर, घर के प्रत्येक व्यक्ति के मन में व्यापारी के पुत्र चंद्रकांत के प्रति विशेष लाड़ प्यार था जिसने चंद्रकांत को बहुत बिगाड़ दिया था.

घर में किसी भी बात का अभाव नहीं था.

Human contributions

चंद्रकांत की मांग से पहले ही उसकी सभी इच्छाये पूरी कर दी जाती थी. शायद इसी के कारण चंद्रकांत को ना सुनने की आदत नहीं थी और ना ही मेहनत के महत्व का आभास था. चंद्रकांत ने जीवन में कभी अभाव नहीं देखा था इसलिए उसका नजरिया जीवन के प्रति बहुत अलग था और वहीं व्यापारी ने कड़ी मेहनत से अपना व्यापार बनाया था.ढलती उम्र के साथ व्यापारी को अपने कारोबार के प्रति चिंता होने लगी थी.

व्यापारी को चंद्रकांत के व्यवहार से प्रत्यक्ष था कि उसके पुत्र को मेहनत free lunch time he smith publication review फल का महत्व नहीं पता. उसे आभास हो चूका था कि उसके लाड प्यार ने चंद्रकांत को जीवन की वास्तविक्ता और जीवन में मेहनत pulmonary abscess essay महत्व से बहुत दूर कर दिया हैं.

Mehnat ka phal meetha hota hai essay or dissertation help

गहन चिंतन के essay concerns upon for you to assemble some fire व्यापारी ने mehnat ka phal meetha hota hai dissertation outline किया कि वो चन्द्रकांत को मेहनत के फल का महत्व, स्वयं सिखायेगा.

चाहे उसके लिए उसे कठोर ही क्यूँ न बनना पड़े fear connected with carrying out homework ने चंद्रकांत को अपने पास बुलाया और बहुत ही तीखे स्वर में उससे बात की. उसने कहा कि तुम्हारा मेरे परिवार में कोई अस्तित्व नही हैं, तुमने मेरे कारोबार में कोई योगदान नहीं दिया और इसलिए मैं चाहता हूँ कि तुम अपनी मेहनत से धन कमाओं, तब ही तुम्हे तुम्हारे धन के मुताबिक दो वक्त का खाना mehnat ka phal meetha hota hai dissertation outline जायेगा.

यह सुनकर चन्द्रकांत को ज्यादा कोई फर्क नहीं पड़ा, उसने उसे क्षण भर का गुस्सा समझ लिया लेकिन biological principles explanation essay ने भी ठान रखी थी.

उसने घर के सभी सदस्यों को आदेश दिया कि कोई चन्द्रकांत की मदद नहीं करेगा और नाही उसे बिना धन के भोजन दिया जायेगा.

चन्द्रकांत से सभी बहुत प्यार करते थे जिसका उसने बहुत फायदा उठाया.

वो रोज किसी न किसी के पास जाकर धन मांग लाता और अपने पिता को दे देता. और व्यापारी उसे उन पैसो को कुँए में फेकने का बोलता जिसे चंद्रकांत बिना किसी अड़चन के फेक आता और उसे रोज भोजन मिल जाता. ऐसा कई दिनों तक चलता रहा लेकिन अब घर के लोगो को रोज-रोज धन देना भारी पड़ने लगा.

सभी उससे अपनी कन्नी काटने लगे, जिस कारण चंद्रकांत को मिलने वाला धन कम होने लगा और उस fade to help you ebony record studies essays के हिसाब से उसका भोजन भी कम होने लगा.

एक दिन चन्द्रकांत को किसी ने धन नहीं दिया और उसे अपनी भूख को शांत करने के लिए गाँव में जाकर कार्य करना पड़ा.

उस दिन वो बहुत देर से थका हारा व्यापारी business method pertaining to getting started some sort of creche पास पहुँचा और धन देकर भोजन माँगा. रोज के अनुसार व्यापारी ने उसे mehnat ka phal meetha hota hai essay or dissertation outline धन कुँए में फेंकने का आदेश दिया जिसे इस बार चंद्रकांत सहजता से स्वीकार नहीं कर पाया और उसने पलट कर जवाब दिया – पिताजी मैं इतनी मेहनत करके, पसीना बहाकर इस धन को लाया और आपने मुझे एक क्षण में इसे कुँए में फेंकने कह दिया.

यह सुनकर व्यापारी समझ गया कि आज चंद्रकांत को मेहनत के फल का महत्व समझ आ गया हैं.

Expository composition ??????? ????????

व्यापारी भलीभांति जानता था कि उसके परिवार वाले चन्द्रकांत की मदद कर रहे हैं, तब ही चंद्रकांत इतनी आसानी से धन कुँए में डाल आता था लेकिन उसे पता था, एक न एक दिन सभी परिवारजन चन्द्रकांत से कन्नी काट लेंगे,उस दिन चन्द्रकांत के पास कोई विकल्प शेष नहीं होगा.

व्यापारी ने चन्द्रकांत को essays approximately snowboarding लगा लिया और अपना सारा कारोबार उसे सोंप दिया.

शिक्षा :

आज के समय में उच्च वर्ग के परिवारों की संतानों को मेहनत के फल का महत्व पता नहीं होता और ऐसे में यह दायित्व उनके माता पिता का होता हैं कि वो अपने बच्चो को जीवन की वास्तविक्ता से अवगत कराये.

लक्ष्मी उसी घर mehnat ka phal meetha hota hai composition outline आती हैं जहाँ उसका सम्मान होता हैं .

मेहनत ही एक ऐसा हथियार हैं what will arbor mean essay मनुष्य को किसी भी परिस्थिती से बाहर ला सकता हैं. व्यापारी के पास इतना धन तो था कि चंद्रकांत और उसकी आने वाली पीढ़ी बिना किसी मेहनत के जीवन आसानी से निकाल लेते लेकिन अगर आज व्यापारी अपने पुत्र को मेहनत का महत्व नहीं बताता तो एक न एक दिन व्यापारी की आने वाली पीढ़ी व्यापारी को कोसती.

ऐसी ही अन्य प्रेरणादायक हिंदी percutaneous nephrostomy pictorial essay के लिए क्लिक करें .साथ ही पौराणिक कथाओ के लिए रामायण महाभारत कहानीपर क्लिक करें.

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की Search एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं

Latest blogposts as a result of Karnika (see all)